सौर ऊर्जा ही भविष्य का उचित विकल्प है – भाभा

राष्ट्रीय विद्युत प्रशिक्षण प्रतिष्ठान के बदरपुर संस्थान द्वारा गुरूवार को सौर ऊर्जा के इंस्टालेशन, उत्पादन और रखरवाव विषय पर एच जे भाभा आई टी आई दिल्ली में प्रधानाचार्य श्री सेबेस्टियन अगस्ती के तत्वाधान और एन पी टी आई के उपनिदेशक श्री राजेश शुक्ला ने एक कार्यशाला का आयोजन किए,  जिसमें ‘‘सौर ऊर्जा ही भविष्य का उचित विकल्प है” के बारे में बताया गया।

बताया गया कि अंतरिक्ष यान और उपग्रहों में आमतौर पर सौर पैनल भी लगे होते हैं और तो और अमेरिका अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने एक सौर-संचालित विमान भी विकसित किया है। जैसा कि ग्लोबल वार्मिंग हमारे पर्यावरण के लिए खतरा बन रही  है उससे देखते हुए सौर ऊर्जा भविष्य में अक्षय ऊर्जा का और भी अधिक महत्वपूर्ण रूप बन जाएगा।

साथ ही एन पी टी आई के सोलर एक्सपर्ट ज्योति कुमारी ने सोलर सैल के बारे में व उसके उपयोग के बारे में आवश्यक जानकारी दी। उन्होंने बताया कि सौर सेल फोटोवोल्टाइक प्रभाव के द्वारा सूर्य के किसी अन्य स्त्रोत से ऊर्जा प्राप्त करता है। अधिकांश उपकरणों के साथ सौर सैल इस तरह से जोड़ी जाती है कि वह उस उपकरण का हिस्सा ही बन जाती है और उससे अलग नहीं किया जा सकता है।

एच जे भाभा आई टी आई के प्रधानाचार्य ने सौर ऊर्जा के भविष्य के सम्बन्ध में छात्रों को विस्तार से समझाया और इस प्रकार की कार्यशाला को आवश्यक बताया।

इस कार्यक्रम में एच जे भाभा आई टी आई के छात्रों ने तथा शिक्षकों ने जिसमे श्री एस जी भारद्वाज (टी पी ओ), श्री किशोरीलाल, श्री के के बढोनी, श्री शिवकुमार एवं नीता श्रीवास्तव आदि ने भाग लिया। कार्यक्रम के समापन पर एन पी टी आई द्वारा 150 छात्रो के प्रमाण-पत्र प्रदान किये गये। एच जे भाभा आई टी आई के प्रधानाचार्य ने सौर ऊर्जा के भविष्य के सम्बन्ध में छात्रों को विस्तार से समझाया और इस प्रकार की कार्यशाला को आवश्यक बताया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.